Primary Ka Master

उत्तर प्रदेश सरकारी स्कूलों में नामांकन और शिक्षक भर्ती में सबसे आगे- शिक्षा मंत्रालय की रिपोर्ट

School Teachers News - काम करें गुरूजी फिर दोषी , शिक्षक के कंधों पर इन 30 कामों की जिम्मेदारी,चेक करें शिक्षकों की कामों की लिस्ट
Written by Ravi Singh

उत्तर प्रदेश सरकारी स्कूलों में नामांकन और शिक्षक भर्ती में सबसे आगे- शिक्षा मंत्रालय की रिपोर्ट

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

देश Desh के विभिन्न राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों Pradesh की तुलना में उत्तर प्रदेश Uttar Pradesh के सरकारी स्कूलों school में वर्ष Years 2021-22 में सबसे अधिक नामांकन हुए, जिसमें छात्रों और छात्राओं दोनों के नामांकन के आकड़े शामिल हैं।साथ ही, शासकीय विद्यालयों vidyalaya में शिक्षकों teachers की कमी को पूरा करने के प्रयासों को देखें तो इस मामले में भी यूपी देश के अन्य सभी राज्यों व यूटी में सबसे आगे है। वर्ष 2021-22 के दौरान राज्य से सरकारी स्कूलों sarakari school के लिए शिक्षकों teachers की भर्ती अन्य राज्यों के मुकाबले सबसे अधिक की गई। ये आकड़े केंद्र सरकार central government के शिक्षा मंत्रालय द्वारा जारी की गई भारत Bharat की स्कूली शिक्षा पर एकीकृत जिला शिक्षा सूचना प्रणाली प्लस (UDISE+) रिपोर्ट Report में सामने आए। मंत्रालय द्वारा UDISE+ रिपोर्ट आज, 3 नवंबर 2022 को जारी की गई।

Screenshot 20221031 171205 1

MoE UDISE+ 2020-21: पिछले वर्ष के मुकाबले बढ़ा स्कूलों में नामांकन

 

वहीं, पूरे देश Desh में समग्र स्तर की बात करें तो वर्ष Years 2021-22 के दौरान प्राथमिक से लेकर उच्चतर माध्यमिक तक के विद्यालयों vidyalaya में कुल 25.57 करोड़ नामांकन हुए, जो कि पिछले वर्ष 2020-21 के 25.38 करोड़ के मुकाबले अधिक है। इस प्रकार, बीत वर्ष में पिछले साल मुकाबले 19.36 लाख अधिक नामांकन हुए। यह बढ़ोत्तरी एससी, एसटी और ओबीसी वर्गों में भी हुई। शिक्षा मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक सकल नामांकन अनुपात (GER), जो कि दाखिले के सामान्य स्तर को बताता है, इसमें 2021-22 के दौरान पिछले वर्ष की तुलना में सुधार देखा गया। यह बढ़ोत्तरी प्राथमिक, उच्च प्राथमिक और उच्चतर माध्यमिक तीनों ही स्तरों पर दर्ज की गई।

 

 

 

MoE UDISE+ 2020-21: छात्राओं के नामांकन में बढ़ोत्तरी

 

दूसरी तरफ, यदि लिंग समानता सूचकांक (GPI) की बात करें तो प्राथमिक से लेकर उच्चतर माध्यमित स्तर तक वर्ष Years 2021-22 के दौरान पिछले साल के मुकाबले 12.29 करोड़ Crore से अधिक छात्राओं के नामांकन हुए, यानि कि नामांकन में 8.19 लाख की वृद्धि दर्ज की गई। बता दें कि जीपीआइ से पता चलता है कि समान आयुवर्ग की छात्राओं की आबादी के संदर्भ में विद्यालय Vidyalaya शिक्षा में छात्राओं का का प्रतिनिधित्व उचित स्तर पर है।

 

 

 

MoE UDISE+ 2020-21: विद्यालयों की संख्या में हुई कमी

 

हालांकि, शिक्षा मंत्रालय (shiksha mantral) की ताजा UDISE+ रिपोर्ट में यह बात सामने आई कि वर्ष Years 2021-22 में विद्यालयों vidyalaya की संख्या में कमी हुई है। संदर्भ वर्ष के दौरान 14.89 विद्यालय थे, जबकि इसके पहले यानि 2020-21 में 15.09 लाख विद्यालय Vidyalaya थे। इस कमी के कारण निजी व अन्य प्रबंधन वाले स्कूलों school का बंद होना एवं कई राज्यों State में स्कूलों school का समूह/क्लस्टर बनाना रिपोर्ट में बताये गये हैं।

UP Free Ration Scheme: उत्तर प्रदेश में हर महीने मुक्त में मिलता है राशन,लाभ उठाने के लिए ऐसे करें आवेदन

Posts office scheme 2022:- पोस्ट ऑफिस Post office की छोटी बचत योजनाओं yojna में निवेश करके बेहतर रिटर्न return प्राप्त कर सकते हैं

UP Lekhpal 2022: एक लेखपाल को कितनी मिलती है सैलरी और कितना करना होता है कार्य,आइए जानें

निपुण भारत मिशन’ के अंतर्गत दीक्षा एप के माध्यम से शिक्षक-प्रशिक्षण कार्यक्रम के Course- 34 35 & 36 लिंक जारी, Join कर पूर्ण करें अपना प्रशिक्षण

Anganwadi notification:- आंगनबाड़ी में 50 हजार पदों पर भर्ती की तैयारी ,15 नवंबर तक जारी हो सकता है नोटिफिकेशन

 

About the author

Ravi Singh

Leave a Comment

WhatsApp Group Join