Primary ka Master : यूपी की स्कूलों में ये लाजीज से खाना नहीं मिलता है, जाने फोटो की Primary ka Master

Primary ka Master : यूपी की स्कूलों में ये लाजीज से खाना नहीं मिलता है, जाने फोटो की सच्चाई

यूपी के सरकारी स्कूलों में बच्चों को दिया जाने वाला मिड-डे मील बेहतर हो गया? खाने में कई तरह के पकवान और फल दिए जा रहे हैं? सोशल मीडिया पर वायरल हुई एक तस्वीर को लेकर अब इस तरह के सवाल होना शुरू हो गए हैं। वायरल फोटो में यूपी के एक सरकारी स्कूल का है, जिसमें एक बच्चा भोजन का थाली लेकर खड़ा है। उसकी थाली में पूड़ी, पनीर की सब्जी, सेब, दूध और आईसक्रीम रखी हुई है। इस फोटो के वायरल होते ही भाजपा नेताओं ने भी अपनी सरकार के तारीफों के पुल बांधने में जरा भी देर नहीं लगाई। साथ ही दिल्ली के स्कूलों से भी तुलना कर डाली, लेकिन जब इस वायरल फोटो की पड़ताल कराई गई तो हकीकत कुछ और ही निकली।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

सोशल मीडिया पर खाने की थाली के साथ जिस बच्चे की फोटो वायरल हो रही है वह जालौन जिले के उच्च प्राथमिक विद्यालय मलकपुरा की है। सोशल मीडिया पर वायरल इस फोटो में बच्चा मिड-डे मील की थाली लेकर खड़ा दिख रहा है। इस थाली में पूड़ी, पनीर की सब्जी, सेब, आइसक्रीम, शेक और खीरे का सलाद भी दिख रहा है। फोटो वायरल होते ही भाजपा नेता और भाजपा समर्थक सरकार की खूबियां गिनाने में तनिक देर नहीं लगाई। इस वायरल फोटो को अपने-अपने सोशल एकाउंट पर पोस्ट कर लिख रहे हैं कि योगी के यूपी में स्कूलों में मिड डे मील में ऐसा शानदार भोजन मिलता है। ऐसा नहीं है कि यूपी के हर स्कूल में नमक-रोटी मिल रही है और ऐसा भी नहीं है कि हर स्कूल में पनीर, सेब और मिठाई बंट रही है।

मिड-डे मील को लेकर चर्चा में आ चुका है सोनभद्र का स्कूल

यूपी के सरकारी स्कूलों में मिड डे मील को लेकर हाल में सोनभद्र का एक सरकारी स्कूल चर्चा में आया था जिसके प्रिंसिपल को नमक-रोटी खिलाने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। इस स्कूल के बच्चे प्रिंसिपल की विदाई के वक्त रोते नजर आए थे जिसका वीडियो वायरल हुआ था। बच्चों का आरोप था कि ग्राम प्रधान को मिड डे मील का सब्जी और सामान भेजना था जो उसने भेजा नहीं जिसके कारण रोटी के साथ नमक परोसा गया था। बच्चों ने ग्राम प्रधान पर प्रिंसिपल को हटाने की साजिश करने का आरोप भी लगाया था।

ये है वायरल फोटो की सच्चाई

जालौन जिले के मलकपुरा पंचायत के जिस स्कूल का फोटो वायरल हो रहा है उसकी सच्चाई कुछ और है। दरअसल जिस गांव का स्कूल है वहां के ग्राम प्रधान अमित की यह एक पहल थी। ग्राम प्रधान ने तिथि भोजन, जिसके तहत कोई अपने जन्मदिन, सालगिरह या किसी खास मौके पर एक दिन स्कूल के दोपहर के भोजन को स्पांसर कर सकता है। जो फोटो वायरल है वो 31 अगस्त के भोजन की है। इस दिन किसी सौरभ नाम के शख्स का जन्मदिन था और सौरभ ने इस शानदार लंच का इंतजाम किया था।

Leave a Comment

WhatsApp Group Join