Shikshamitra news

उत्तराखंड के शिक्षामित्रों को हिमाचल के तर्ज पर नियुक्ति दी जाएं, सीएम ने दिया आश्वासन, जल्द मांगों पर आएगा फैसला

समय से मानदेय न मिलने से शिक्षामित्रों में आक्रोश
Written by Ravi Singh

उत्तराखंड के शिक्षामित्रों को हिमाचल के तर्ज पर नियुक्ति दी जाएं, सीएम ने दिया आश्वासन, जल्द मांगों पर आएगा फैसला

देहरादून: डीएलएड प्रशिक्षत शिक्षामित्र सालों years से अपनी लंबित मांगों को लेकर शासन-प्रशासन से गुहार लगा रहे हैं. लेकिन सरकार Government उनकी मांगों पर गंभीरता नहीं दिखा रही है. डीएलएड प्रशिक्षित शिक्षामित्रों का कहना है कि वह विगत कई वर्षों years से दुर्गम अति दुर्गम राजकीय प्राथमिक विद्यालयों Prathmik Vidyalaya में तैनात हैं. ऐसे में उन्हें भी औपबंधिक शिक्षामित्रों shikshamitro के समान वेतन और हिमाचल प्रदेश Pradesh की तर्ज पर नियुक्ति दी जाए.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 

गौरतलब है कि 9 November को राज्य स्थापना दिवस है. ऐसे में डीएलएड शिक्षामित्रों shikshamitro को प्रदेश Pradesh के मुखिया पुष्कर सिंह धामी से उम्मीद है कि मुख्यमंत्री स्थापना दिवस के मौके पर समान कार्य समान वेतन और स्थाई नियुक्ति की घोषणा करेंगे. राजधानी देहरादून पहुंचे डीएलएड प्रशिक्षित शिक्षामित्रों shikshamitro का कहना है कि बीते रोज उनकी मुलाकात मुख्यमंत्री CM पुष्कर सिंह धामी से हुई है और उन्होंने आश्वासन दिया है कि उनकी मांगों पर जल्द फैसला लिया जाएगा.बता दें कि उत्तराखंड की शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए शिक्षामित्रों का विशेष योगदान रहा है फिर चाहे ठेठ पहाड़ी गांव हो या फिर मैदानी जिले जहां सरकार ने शिक्षामित्रों को नियुक्त करके शिक्षा विभाग को बेहतर बनाने का कार्य किया है. प्रदेश की बात करें तो यहां करीब 466 शिक्षामित्र हैं, जो राज्य के हर जनपद में तैनात हैं.

 

संगठन का कहना है कि वह पिछले 20 वर्षों से शिक्षा विभाग shiksha vibhag में अपनी सेवाएं दे रहे हैं, बावजूद इसके सरकार Government उनका वेतनमान नहीं बढ़ा रही है. शिक्षामित्रों को कहना है कि औपबंधिक शिक्षामित्रों को 50 हजार रुपए वेतनमान यह जाता है जबकि समान वेतन भोगियों को ₹20000 दिए जाते हैं जबकि समान योग्यता होने के बावजूद उन्हें भी समान वेतन दिया जाए.

About the author

Ravi Singh

Leave a Comment

WhatsApp Group Join