पुरानी पेंशन स्कीम pension scheme को लागू करना : उपाध्यक्ष अरविंद पानगढ़िया अनैतिक मानते हैं।

पुरानी पेंशन स्कीम pension scheme को लागू करना : उपाध्यक्ष अरविंद पानगढ़िया अनैतिक मानते हैं।

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 

कांग्रेस और कुछ दूसरे राजनीतिक दलों की तरफ से कई राज्यों में पुरानी पेंशन स्कीम (ओपीएस) को लागू करने के एलान को नीति आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष अरविंद पानगढ़िया अनैतिक मानते हैं। उनका कहना है कि राजनीतिक दलों की तरफ से चुनाव से पहले एक बार लागू होने वाले फ्रीबीज (मुफ्त की योजनाएं- रेवड़ियों) की घोषणा की बात तो समझी जा सकती है और इससे कोई बड़ा घाटा भी नहीं है। हालांकि पुरानी पेंशन स्कीम जैसी योजना को लागू करना आने वाली पीढ़ी पर बड़ा बोझ डालना है। दैनिक जागरण के साथ एक विशेष बातचीत में पानगढ़िया ने यह भी कहा कि भारत का कोई भी एक राज्य ऐसा नहीं है कि पुरानी पेंशन स्कीम के बोझ को वहन कर सके।

Screenshot 20221015 080554

पानगढ़िया से जब यह पूछा गया कि वह इस सामाजिक सुरक्षा स्कीम को फिर से लागू करने को अनैतिक क्यों कह रहे हैं तो उनका जवाब था कि जो राजनीतिक दल इसका वादा कर रहे हैं उनको मालूम है कि इससे जो बोझ पड़ेगा उसका भुगतान उनको नहीं करना है बल्कि कई वर्षों बाद की सरकारों को करना है। एनपीएस वर्ष, 2004 से लागू है और जिन कर्मचारियों ने इसे स्वीकार किया है उन्हें औसतन वर्ष 2034 से एनपीएस के जरिये पेंशन का भुगतान शुरू होगा। यानी औपीएस लागू करने का बोझ वर्ष 2034 में जो सरकार आएगी, उस पर इसका दायित्व होगा। इस वादे से चुनाव जीतने वाली सरकार को अगले पांच वर्षों तक बोझ नहीं उठाना है। मैं इस तरह का वादा करना और इसे लागू करना दोनो को अनैतिक मानता हूं।

 

IMG 20221110 WA0010

कोई भी राज्य नहीं उठा सकेगा यह बोझ

पानगढ़िया ने कहा कि अगले एक दशक तक देश और राज्यों की आर्थिक प्रगति अच्छी होने के बावजूद मुझे नहीं लगता कि कोई भी राज्य इस तरह के दायित्व को वहन कर सकता है। आर्थिक प्रगति से राज्यों को जो राजस्व मिलेगा, उससे उनको ढांचागत सुविधाओं को बेहतर बनाना होगा। गरीबों के उत्थान पर काम करने पर ध्यान देना होगा।

 

अरविंद पानगढ़िया

एक बड़ा उदाहरण है। वहां कुल राजस्व का 12-13 प्रतिशत पेंशन में चला जाता।

Leave a Comment

WhatsApp Group Join