Basic Shiksha News

महानिदेशक का दावा नए सत्र में परिषदीय स्कूलों में किताबें 15 मार्च तक पहुंच जाएंगी

बड़ी कार्यवाही :- तीन महीने में 314 शिक्षकों पर कार्रवाई, महानिदेशक ने शेष स्कूलों की जांच कर रिपोर्ट आनलाइन भेजने का दिया निर्देश
Written by Ravi Singh

महानिदेशक का दावा नए सत्र में परिषदीय स्कूलों में किताबें 15 मार्च तक पहुंच जाएंगी

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

 

प्रयागराज, । यूपी के परिषदीय council स्कूलों में पठन-पाठन को सुधारने की दिशा में तेजी से कार्य चल रहा है। नए सत्र में 15 मार्च तक सभी परिषदीय council स्कूलों में पाठ्य पुस्तकें, अभ्यास पुस्तिकाओं practice books  को पहुंचा दिया जाएगा। यह दावा स्कूल शिक्षा महानिदेशक विजय किरण आनंद ने प्रयागराज में किया। उन्होंने बताया कि नए सत्र में प्रदेश भर में करीब 17 करोड़ किताबें बच्चों तक पहुंचाई जाएंगी। इसके लिए टेंडर Tender की प्रक्रिया अभी ही पूरी कर ली गई है। यह भी कहा कि बच्चों को नई शिक्षा नीति के तहत एनसीईआरटी की पुस्तकें दी जाएंगी।

बड़ी कार्यवाही :- तीन महीने में 314 शिक्षकों पर कार्रवाई, महानिदेशक ने शेष स्कूलों की जांच कर रिपोर्ट आनलाइन भेजने का दिया निर्देश

प्रयागराज में मंडलीय कार्यशाला में शामिल हुए स्‍कूल शिक्षा महानिदेशक :

प्रयागराज में निपुण भारत अभियान  Nipun Bharat Abhiyan के तहत आयोजित मंडलीय कार्यशाला में शामिल होने आए स्कूल शिक्षा के महानिदेशक ने अनौपचारिक बातचीत में माना कि वर्तमान सत्र current session  में अब तक सभी बच्चों को पाठ्य पुस्तकें नहीं मिल सकी हैं। इसकी वजह टेंडर में विलंब Delay  होने सहित कई अन्य तकनीकी कारण हैं।

 

बेसिक स्‍कूलों में तिमाही परीक्षाएं हो रहीं : स्‍कूल शिक्षा के महानिदेशक ने विश्वास दिलाया कि अगले सत्र में इस तरह की चूक नहीं होगी। वर्तमान Present  सत्र के संदर्भ में बताया कि मंडलवार सभी बेसिक स्कूलों में तिमाही परीक्षाएं कराई जा रही हैं। प्रयागराज Pप्रयागराज  में नवंबर में यह परीक्षा सरल एप के माध्यम से कराई जाएगी। कहा कि परीक्षा के बाद प्रत्येक विद्यार्थी और अभिभावक Guardian तक रिपोर्ट कार्ड भी भेजा जाएगा।

 

बेसिक शिक्षा में रिक्‍त पद शीघ्र भरे जाएंगे : बेसिक शिक्षा में स्थायी निदेशक सहित जो भी अन्य पद रिक्त हैं वह शीघ्र भरे जाएंगे। यह भी कहा कि शासन का पूरा जोर शिक्षा के सुधार पर है। सभी स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ाई जाए। अध्यापन का स्तर सुधरे। इन सभी बातों को लेकर निपुण भारत अभियान चलाया जा रहा है। अध्यापकों को कई तरह के प्रशिक्षण भी दिए जा रहे हैं।

 

 

About the author

Ravi Singh

Leave a Comment

WhatsApp Group Join