शिक्षकों का सिरदर्द बने बेसिक शिक्षा से जुड़े एप, स्मॉर्टफोन नहीं चला पाने वाले शिक्षक परेशान, तनाव का कारण बने एप्लीकेशन

शिक्षकों का सिरदर्द बने बेसिक शिक्षा से जुड़े एप, स्मॉर्टफोन नहीं चला पाने वाले शिक्षक परेशान, तनाव का कारण बने एप्लीकेशन

 

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

सुल्तानपुर। परिषदीय विद्यालयों में कार्यरत शिक्षकों के लिए बेसिक शिक्षा विभाग के मोबाइल एप सिरदर्द बन गए हैं। इन एप का संचालन कर पाना वरिष्ठ शिक्षकों को भारी पड़ रहा है। स्मॉर्टफोन नहीं चला पाने वाले शिक्षकों के लिए एप तनाव का कारण बन रहे हैं। बेसिक शिक्षा विभाग में अधिकांश काम अब ऑनलाइन हो रहे हैं। शिक्षकों की छूट्टी, प्रमोशन, बेतन आदि मानव संपदा पोर्टल से जुड़ गया है। अवकाश लेने के लिए भी शिक्षकों को ऑनलाइन ही आवेदन करना पड़ एक साथ चल रहे कई कार्यक्रम बेसिक शिक्षा विभाग में इन दिलों कार्यक्रमों की भरमार है। शिक्षक एवं छात्र इनहों कार्यक्रमों के फेर में उलझे हुए हैं। निपुण भारत मिशन, स्कूल रेडीनेस कार्यक्रम, रिमेडियल क्लास, मिशन कायाकल्प, शारदा कार्यक्रम, यू-डॉयस समेत कई शामिल हैं।

 

Screenshot 20221224 044047

अनिवार्य रूप से रखने पड़ रहे हैं। इसमें एप, रीड एलांग एप, प्रेरणा डीबीटी एप, प्रेरणा एप, निपुण लक्ष्य एप, समर्थ एप, सरल एप समेत कई एप शामिल हैं। शिक्षकों को अपने निजी मोबाइल में इन एप को इंस्टाल करना होता है। सभी का यूजर आईडी और पासवर्ड बनाना तथा उन्हें याद रखना शिक्षकों की जरूरत के साथ ही विवशता बन गया है।

Leave a Comment

WhatsApp Group Join